फिल्म ‘थ्री इडियट्स’ के रियल आमिर खान का नया अविष्कार, भारतीय सेना भी हुई दीवानी

sonam-wangchuck

सोनम वांगचुक के किरदार को फिल्म में आमिर खान ने निभाया था, शायद अगर आपने फिल्म देखी होगी, तो आपको भी अंदाजा होगा, कि सोनम कितने क्रिएटिव हैं।

New Delhi, May 16 : इंडियन आर्मी को आमिर खान की बनाई गई मिट्टी से बनी झोपड़ियां बेहद पसंद आ रही है। अब आप भी सोच रहे होंगे, कि आखिर आमिर खान झोपड़ी कब से बनाने लगे। अरे रुकिये, जनाब, आपको बता दें कि ये आमिर खान बॉलीवुड सुपरस्टार नहीं बल्कि लद्दाख में रहने वाले सोनम वांगचुक हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार सोनम वांगचुक के असल जीवन की कहानी को बॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान ने फिल्म थ्री इडिएट्स में पर्दे पर उतारा था।

Advertisement

थ्री इडियट्स में आमिर ने किया था कैरेक्टर
राजकुमार हिरानी निर्देशित फिल्म थ्री इडिएट्स में आमिर खान का नाम फुंसुख वांदडू था। इंजीनियर से इनोवेटर बने सोनम ने सोलर पावर से गर्म रहने वाली खास मिट्टी की झोपड़ियां तैयार की है। sonam-wangchuck1इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार भारतीय सेना ने भी इन खास मिट्टी से बनी झोपड़ियों में दिलचस्पी दिखाई है।

Advertisement

पर्यावरण के लिये अनूकूल
मिट्टी से तैयार की गई ये झोपड़ियां पर्यावरण के लिये पूरी तरह से अनूकूल हैं। अपनी खास बनावट की वजह से लद्दाख में सर्दियों में भी इन्हें गर्म रखने के लिये ज्यादा हीटिंग की आवश्यकता नहीं पड़ती है। banner-1आपको बता दें कि लद्दाख को दुनिया की सबसे ठंडी जगहों में से एक माना जाता है।

आर्मी बनाएगी 10 हजार झोपड़ियां
सोनम वांगचुक के किरदार को फिल्म में आमिर खान ने निभाया था, शायद अगर आपने फिल्म देखी होगी, तो आपको भी अंदाजा होगा, कि सोनम कितने क्रिएटिव हैं। sonam-wangchuck2वांगचुक ने बताया कि इन मिट्टी से बनी प्रोटोटाइप सफल रहा है, भारतीय सेना ने ऐसी कम से कम 10 हजार झोपड़ियां बनवाने में दिलचस्पी दिखाई है।

कहीं भी ले जाया जा सकता है
सोनम वांगचुक ने सोमवार को जम्मू-कश्मीर सरकार के एक प्रोग्राम के बाद मीडिया को बताया कि उनकी लद्दाख में एक प्लांट बनाने की योजना है, ladakhवो उस पर काम कर रहे हैं। इसके साथ ही उन्होने ये भी बताया कि मिट्टी से बनी इन झोपड़ियों को कहीं भी आसानी से ले जाया जा सकता है, भारतीय सेना के जरुरतों के हिसाब से इन्हें कहीं भी असेंबल किया जा सकता है, इन खास झोपड़ियों को गर्म रखने में बिल्कुल भी पैसा नहीं लगेगा।

इस झोपड़ी की खासियत
इन खास झोपड़ियों की खासियत ये है कि बाहर का तापमान -20 डिग्री होने पर भी झोपड़ी के अंदर 20 डिग्री तापमान रहेगा। ये तापमान बिना किसी हिटिंग के रहेगा। hutइसे गर्म रखने में पैसे भी नहीं खर्च होंगे, क्योंकि ये सोलर एनर्जी से चलता है, इसलिये हर लिहाज से ये किफायती और अच्छा है।

भारतीय सेना के लिये अच्छा विकल्प
मौजूदा समय में भारतीय सेना अपने जवानों को ठंड से बचाने के लिये भारी मात्रा में ऑयल और लकड़ी का इस्तेमाल करती है, Indian Armyये महंगा होने के साथ-साथ प्रदूषण भी फैलाता है, इसलिये सोनम वांगचुक का आइडिया भारतीय सेना के लिये हर लिहाज से अच्छा है।