दूर होंगे कुंडली के दोष, बढ़ेगी इच्‍छा शक्ति, बस करें इस चमत्‍कारी पुस्‍तक का पाठ

जब जीवन में सब कुछ मुश्किल लगने लगे, किसी काम को करने की इच्‍छा शक्ति खो जाए तो इस पुस्‍तक का पाठ आपको आपकी सारी समस्‍याओं से निजात दिलाएगा ।

New Delhi, May 16 : जीवन में कई कठिनाइयों से मनुष्‍य का रोज सामना होता है, लेकिन हताश होने की बजाय आगे बढ़ते रहना ही जीना कहलाता है । लेकिन कई बार परिस्थितियां ऐसी बन जाती हैं कि मन में संकट के बादल गहराने लगते हैं, बीमारियों के आने-जाने के चलते तन साथ नहीं देता, जीवन पर अविश्‍वास के काले बादल मंडराने लगते हैं, आत्‍मविश्‍वास खोने लगता है ऐसे में क्‍या करें । आपकी इन सभी परेशानियों का हल है सुंदरकांड का पाठ । जाने इसे पढ़ने से आपको क्‍या लाभ मिलेगा ।

Advertisement

सुंदरकांड का महत्‍व और वर्णन
रामचरितमानस में हनुमान जी की विजय गाथा का गान करता एक पूरा अध्‍याय है सुंदर कांड । यूं तो पूरी रामायण में भगवान राम को ही नायक के तौर पर प्रस्‍तुत किया गया है लेकिन सुंदर कांड में हनुमान जी को नायक माना गया है । हनुमान जी की माता अंजनी उन्‍हें सुंदर बुलाया करती थीं, इसलिए रामायण के रचयिता वालमीकि ने इस कांड का नाम सुंदर कांड दिया । इसमें हनुमान जी की विजय गाथा का बखूबी गान किया गया है ।

Advertisement

मानसिक रूप से मजबूत
यदि आप चिंताओं से घिर गए हैं, आपको जीवन में कोई राह नहीं सूझ रही है । मानसिक रूप से खुद को कमजोर महसूस कर रहे हैं तो आज से ही सुंदरकांड का पाठ शुरू करें । ये आपको मानसिक रूप से मजबूत करेगा और आप किसी भी समस्‍या का सामना करने के लिए खुद को तैयार कर पाएंगे । इसका पाठ करने के लिए आपको किसी तरह की तैयारी की जरूरत नहीं है बसे मन में इसे पढ़ने का विचार लाएं ।

कुंडली के दोष
ज्‍योतिष शास्‍त्र के अनुसार सुंदरकांड का पाठ करने से आपकी कुंडली में मौजूद समस्‍त ग्रह दोष दूर हो जाते हैं । ग्रहों की दशा और दिशा की वजह से आपको जिन विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा था सुंदर कांड के पाठ के बाद वो सारी समस्‍याएं दूर हो जाएंगी । कुंडली के सभी दोषों को दूर करने के लिए रामायण के इस हिस्‍से का पाठ करना शुभ माना गया है ।

बढ़ती है इच्‍छा शक्ति
हुनमान जी की विजय गाथा को बताता सुंदर कांड व्‍यक्ति को जरूर पढ़ना चाहिए । इसके पाठ से व्‍यक्ति के हृदय में सोई पड़ीं इच्‍छाओं का संचार होता है । अपनी परिस्थितियों से तंग आकर जो लोग अपने लक्ष्‍य को भूल जाते हैं या फिर उन्‍हें पूरा करने में खुद को लाचार समझते हैं वे सभी लोग इस चमत्‍कारी प्रसंग का पाठ करके अपनी खोई हुई इच्‍छा शाक्ति पा सकते हैं ।

सफलता के सूत्र
एक साधारण व्‍यक्ति भी अपनी इच्‍छा शक्ति, मानसिक मजबूती और आत्‍मविश्‍वास के साथ कुछ भी कर सकता है । यही शिक्षा आपको सुंदर कांड पढ़ने से मिलती है । जिस तरह से श्रीराम भक्‍त हनुमान ने गहरा समुद्र पार कर लंका पहुंचकर सीता माता का पता लगाया था और अपने आत्‍मबल से पूरी लंका को जला डाला था उसी प्रकार आप में भी एक तरह की सकारात्‍मकता का संचार करता है सुंदर कांड ।