गलती से कार अनलॉक छोड़ दी, नतीजा बुझ गये दो घरों के चिराग, दोनों 2 परिवारों के इकलौते बेेटे थे

surat car

कार का शीशा तोड़कर जब दोनों बच्चों को बाहर निकाला गया, तो दोनों बेहोश थे, जल्दी से उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

New Delhi, May 16 : सूरत शहर के डिंडोली की मानसी रेजिडेंसी में रहने वाले दो परिवारों ने एक साथ अपने घर के इकलौते चिराग को खो दिया। दरअसल सोमवार दोपहर साढे 12 बजे दोनों बच्चे घर से नमकीन लाने के लिये निकले, दोनों बाहर खड़ी कार में बैठ गये। इनके अंदर बैठते ही कार का गेट लॉक हो गया। धूप में तपती बंद कार में कई घंटे ल़ॉक रहने की वजह से दोनों बच्चों की सांसें थम गई।

Advertisement

घर वालों ने पुलिस को दी सूचना
बच्चों के एक घंटे तक नहीं लौटने के बाद उनके परिजनों ने उन्हें डेढ बजे से ढूंढना शुरु कर दिया। परिजनों ने मामले की जानकारी पुलिस को भी दी। surat car1शाम करीब सात बजे कार के पास कुत्तों के भौंकने पर पता चला कि दोनों बच्चे अंदर लॉक हैं। कार का शीशा तोड़कर जब दोनों बच्चों को बाहर निकाला गया, तो दोनों बेहोश थे, जल्दी से उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

Advertisement

4 और 5 साल के थे बच्चे
दोनों बच्चे की चमड़ी गर्मी की वजह से झुलस गये थे, उनके हाथ-पांव पर फफोले पड़ चुके थे। आपको बता दें कि surat car2मानसी रेजिडेंसी के मकान नंबर 67 में रहने वाले निखिल जरीवाला के 4 वर्षीय बेटे विराज और मकान नंबर 62 में रहने वाले महेशा रुपावाला ने 5 वर्षीय बेटे हेलीश को इस घटना में खो दिया। विराज जूनियर केजी में तो हेलीश सीनियर केजी में पढाई करते थे।

लॉक होने से कार के भीतर बढ गया तापमान
मामले की जांच करने वाले डीसीपी राकेश बारोट ने जानकारी देते हुए बताया कि कार रविवार सुबह से मानसी रेजिडेंसी में खड़ी थी। कार शायद अनलॉक थी, surat car3बच्चे खेलते-खेलते कार के भीतर घुस गये, और दरवाजा बंद कर लिया, जिससे कार लॉक हो गया। कार के लॉक होते ही अंदर का तापमान बढने लगा। गर्मी, उमस की वजह से दोनों बच्चों को सांस लेने में तकलीफ हो रही होगी, जिसकी वजह से दोनों ने दम तोड़ दिया।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स ?
फिजिक्स के प्रोफेसर के अनुसार बंद Car से गर्मी बाहर नहीं आ पाती है, साथ ही ये कार धूप में खड़ी थी, जिसकी वजह से उसका तापमान बढते चला गया।Car Heat कार लॉक थी, इस वजह से अंदर का तापमान एक घंटे में 35.6 डिग्री से बढकर 51 डिग्री तक पहुंच गया होगा, जिसकी वजह से दोनों बच्चों को सांस लेने में तकलीफ हुई होगी और दम घुटने की वजह से दोनों की मौत हो गई।

बच्चों को देखकर लगा जैसे तंदूर में जल गये हों
एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि वो भी मानसी रेजिडेंसी में ही रहते हैं, बच्चों के लापता होने की सूचना मिलने से पूरी सोसाइटी परेशान हो गई थी, surat car4परिजनों के अलावा पड़ोसी भी एक-एक गली जाकर दोनों को तलाश रहे थे। शाम सात बजे के करीब Car के पास कुत्तों को भौकते देख कुछ बच्चे वहां गये, उन्हीं बच्चों ने मुझे जानकारी दी। जब वहां जाकर देखा, तो दोनों बच्चे कार के भीतर लेटे हुए थे। एक पल के लिये तो सकून महसूस हुआ, लेकिन फिर अनहोनी की आशंका हुई, तुरंत कार का दरवाजा खोलने की कोशिश की, लेकिन नहीं खुला, जिसके बाद पत्थर से लेफ्ट साइड का कांच तोड़ दिया और बच्चों को बाहर निकाला। बच्चों के शरीर को देखकर लगा कि जैसे दोनों तंदूर में जल गये हों, दोनों को अस्पताल ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने बताया कि देर हो चुकी है।

पुलिस कर रही जांच
सूरत पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है, आपको बता दें कि दोनों ही बच्चे अपने-अपने परिवार के इकलौते चिराग थे। सोसाइटी में एक साथ दो बच्चों की मौत से मातम छाया हुआ है। Gujarat Policeफिलहाल पुलिस सोसाइटी के लोगों से पूछताछ कर रही है और सीसीटीवी फुटेज खंगालने में जुटी हुई है।