पहले की हत्या, फिर मांगी फिरौती, शहर-शहर बदलते रहे, लेकिन हो गई एक चूक

दोनों आरोपी फिरौती में मोटी रकम वसूलने के इरादे से दोस्त का अपहरण किया, लेकिन कहानी में ऐसा ट्विस्ट आया, कि उनके मंसूबों पर पानी फिर गई।

New Delhi, May 28 : दिल्ली में सन्न कर देने वाली एक घटना सामने आई है, यहां पर दो युवकों ने अपने दोस्त के साथ धोखा दिया, दोनों आरोपी फिरौती में मोटी रकम वसूलने के इरादे से दोस्त का अपहरण किया, लेकिन कहानी में ऐसा ट्विस्ट आया, कि उनके मंसूबों पर पानी फिर गई। वरुण ने अपने साले विक्की से कहा कि वो बाहर जाकर देखे कि कोई चहल-पहल तो नहीं है, विक्की बाहर देखने आया, तभी वरुण ने सैप्टिक टैंक को चेक किया। कुछ ही मिनटों में विक्की आया और बोला, कि सब ठीक है, चलना चाहिये, दोनों ने लाश के टुकड़े सैप्टिक टैंक में डाल दिये और दिल्ली के द्वारका स्थित उस मकान से निकल लिये, जिसे उन्होने तीन दिन पहले ही किराये पर लिया था।

Advertisement

फिर किया फिरौती के लिये कॉल
दिल्ली से ट्रेन पकड़कर दोनों सोनीपत पहुंचे, वहां दो दिन बाद वरुण ने सचिन के मोबाइल से उसके घर कॉल किया और कहा कि उनका बेटा सचिन उनकी गिरफ्त में है, Murderअगर वो उन्हें जिंदा चाहते हैं, तो 50 लाख रुपये दे दें। जवाब में सचिन के पिता ने इतनी बड़ी रकम तुरंत ना जुटा पाने की बात कही, तो फिर बात 10 लाख रुपये में तय हो गई। वरुण ने फोन काट दिया, थोड़ी देर बाद कॉल कर फिर धमकी दी, फिर दोनों सोनीपत से फोन करने के बाद बवाना चले गये।

Advertisement

सचिन ने दोनों को बुलाया था पार्टी में
आपको बता दें कि विक्की अपने जीजा के साथ दिल्ली में ही रहता था, दोनों की पिछले कुछ दिनों से सचिन से दोस्ती थी, up hapur murder (3)असल में एक दुकान में वरुण और उसका भाई ठेके पर काम करता था, उसी दुकान में सचिन को काम मिल जाने की वजह से इन दोनों का काम चला गया। लेकिन सचिन के साथ दोनों सामान्य बने रहे। सचिन ने अपने बेटे के जन्म होने की खुशी की पार्टी में दोनों को बुलाया था। जहां पर सचिन का शानो-शौकत देख दोनों हैरान रह गये थे। बस यहीं सचिन से गलती हुई थी कि उसने इन दोनों को बुला लिया था।

पार्टी के बाद मन में लालच आ गई
उस पार्टी के बाद दोनों आरोपियों के मन में लालच आ गया। सचिन को किडनैप कर फिरौती वसूलने की दोनों के मन में विचार आया, Rupees11दोनों ने प्लान बनाकर सचिन को 12 मई की सुबह साढे सात बजे फोन कर अपने घर बुलाया और वहीं पर बंद कर दिया। सचिन का फोन दोनों ने मिलकर छिन लिया और उसकी भरपूर पिटाई भी की। सचिन का फोन विक्की ने बंद कर दिया और फिरौती की मांग को लेकर प्लान बनाने लगा।

आरी से किये लाश के टुकड़े
शाम को दोनों वापस लौटे, तो गुस्से में थे, दोनों ने गुस्से में सचिन को खूब पीटा, इसी बीच सचिन के विरोध करने पर दोनों ने उसकी जान ले ली। Murder3अब दोनों दुविधा में फंस गये थे, कि आखिर लाश को छोड़ी, तो पकड़े जाएंगे, इसलिये दोनों ने लकड़ी काटने वाले आरी से सचिन के लाश के 6 टुकड़े कर दिये और सैप्टिक टैंक के भीतर फेंक दिया।

दिल्ली छोड़कर भाग गये थे
वरुण और विक्की को भी इस बात का अंदेशा हो गया था कि दिल्ली में रहना उनके लिये खतरे से खाली नहीं है, इसीलिये दोनों दिल्ली छोड़कर इधर-उधर घूम रहे थे। Trainsउन्होने फिरौती की रकम के साथ सचिन के पिता को आजादपुर मंडी बुलाया था, लेकिन पुलिस के अंदेशे की वजह से दोनों वहां गये ही नहीं, फिर दोनों दिल्ली छोड़ बिहार जाकर आगे की योजना बनाना तय किया।

पुलिस पहुंच गई बिहार
वरुण और विक्की बिहार में अपने घर पर थे, कि अचानक पुलिस पहुंची और वरुण को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के बाद विक्की भी पकड़ा गया। delhi Police5असल में सचिन के मोबाइल फोन से लोकेशन ट्रेस करने के बाद पुलिस लगातार दोनों का पीछा कर रही थी, पुलिस हरियाणा भी पहुंची थी, लेकिन दोनों तब तक वहां से निकल चुके थे। 15 मई को पहली बार दोनों ने फिरौती के लिये कॉल किया था, तभी सचिन के घर वालों ने पुलिस को जानकारी दे दी थी। उसके एक सप्ताह बाद दोनों आरोपी पकड़े गये। पुलिस पूछताछ में दोनों आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है।