इस डाइट प्‍लान के आगे हर डायट है फेल, दुगना तेजी से वजन कम करने की गारंटी

 शरीर के कमजोर मेटाबॉलिज्म के कारण कैलोरी जल्दी बर्न नहीं हो पाती हैं, जिस वजह से वजन कम होने की प्रक्रिया में बाधा आ जाती है । बोस्टोन चिल्ड्रन हॉस्पिटल की टीम के मुताबिक इस स्टडी से साफ है कि मोटापे को दूर करने में डाइट का कितना बड़ा रोल है ।

New Delhi, Aug 21: लाइफस्टाइल के चलते आजकल ज्‍यादातर लोग मोटापे से ग्रसित हैं । मोटापा बढ़ने की प्रक्रिया तो बड़ी आसानी से हो जाती है लेकिन इसे कम करना बेहद मुश्किल हो जाता है । लेकिन परेशान ना हों, इसे काबू में करना कोई मुश्किल काम नहीं । बस आपको सही डायट की जरूरत है । जी हां, डायट पर हुई शोध कहती है कि खाने पर ध्‍यान देकर आप अपने मोटापे को कम कर सकते हैं । बढ़ते वजन से परेशान होने की बजाय इससे निपटना सीखें । थेड़ी सी मेहनत और खास तरह के खाने के साथ अपने वजन को आप दुगनी रफ्तार से घटा सकते हैं ।

कम कार्ब वाली डायट
शोध के मुताबिक अब आप कम कार्बोहाइड्रेट वाली डाइट को अपनी जीवनशैली का हिस्साबनाकर अपने वेट को बिना मेहनत किए ही कम कर सकेंगे । स्टडी की रिपोर्ट में बताया गया है कि बढ़ते वजन से मुक्ति पाने के लिए कम कार्बोहाइड्रेट वाली डाइट बेहद कारगर साबित होती है । स्टडी के दौरान रिसर्चर्स ने पाया कि जो लोग खाने में सलाद और लीन प्रोटीन का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं, उनमें भूख पैदा करने वाले हार्मोन कम प्रोड्यूस होते हैं और कम खाने की वजह से लोगों का वजन भी नियत्रंण में रहता है ।

18 से 65 उम्र वर्ग के लोगों पर हुआ शोध
इस स्टडी में 18 से 65 वर्ष के करीबन 234 लोग अधिक वजन वाले शामिल किए गए, जिनका बॉडी मास इंडेक्स  25 या उससे ज्‍यादा था । अध्‍ययन के दौरान इसमें शामिल लोगों ने शुरुआत में 10 हफ्तों तक वजन कम करने वाली डाइट को फॉलो किया । इस डाइट को फॉलो करने वाले लोगों में कम से कम 164 लोगों ने 10 फीसदी तक वजन कम किया ।
अलग-अलग डायट पर हुई रिसर्च
आपको बता दें कि इस स्टडी के दौरान लोगों को रेंडमली अलग-अलग डाइट फॉलो करने के लिए कहा गया था । इसमें 20 हफ्तों तक कुछ लोगों ने 60 फीसदी कार्बोहाइड्रेट वाली डाइट ली तो वहीं कुछ लोगों ने 40 फीसदी और 20 फीसदी वाली कार्बोहाइड्रेट डाइट ली । इस रिसर्च में शामिल सभी लोगों को टीम की ओर से तैयार किया गया खाना प्रोवाइड कराया गया, जिसमें प्रोटीन, फैट और कार्बोहाइड्रेट शामिल था । इसके बाद ये जानने की कोशिश हुई कि किस ग्रुप के लोगों ने सबसे ज्‍यादा वजन कम किया है ।

कार्ब डायट वालों ने वजन किया कम
नतीजे सामने आए तो सब हैरान रह गए । सबसे कम कार्बोहाइड्रट वाली डाइट फॉलो करने वाले लोगों का दूसरे लोगों के मुकाबले ज्‍यादा वजन कम हुआ । शोधकर्ताओं ने लोगों के इंस्युलिन हार्मोन की भी जांच की । इंस्युलिन हार्मोन ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ने से रोकता है । नतीजों में ये भी पाया गया कि स्टडी की शुरुआत में जिन लोगों में इंसुलिन की मात्रा अधिक थी उनका वजन भी कम कार्बोहाइड्रेट वाली डाइट लेने वाले लोगों से भी ज्यादा कम हुआ ।