रामपाल पर विशेष अदालत ने सुनाया बड़ा फैसला, छावनी में बदला हिसार जेल परिसर

सतलोक आश्रम के संचालक रामपाल को दोनों हत्‍याओं का दोषी करार दिया गया है । 4 साल पुराने इस मामले में आज हिसार की विशेष अदालत ने अपना फैसला सुनाया ।

New Delhi, Oct 11 : सतलोक आश्रम के संचालक रामपाल पर 4 साल बाद हत्या के दोनों मामलों में विशेष अदालत ने फैसला सुनाया है । कोर्ट ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिग के जरिए ये फैसला सुनाया है । क्षेत्र की सुरक्षा व्‍यवस्‍था के मद्देनजर जेल परिसर के बाहर नाका लगाकर भारी पुलिस बल और आरएएफ के जवानों को तैनात किया है । रामपाल पर ये फैसला अतिरिक्त सेशन जज डीआर चालिका ने सुनाया ।

Advertisement

धारा 144 लागू
इलाके में किसी भी संभावित बवाल और हिंसा के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्‍ता इंतजाम कर दिए गए हैं तोड़फोड़ जैसी घटनाओं से निपटने के लिए पुलिस पहले से ही तैयार है । हिसार में धारा-144 लागू कर दी गई है । कोर्ट के चारों ओर 3 किलोमीटर तक सुरक्षा घेरा बनाया गया है, जिसके अंदार बाहर का कोई भी व्‍यक्ति नहीं आ सकता । इसके साथ ही हिसार के रेलवे स्टेशन पर भी सुरक्षा कड़ी कर दी गई है । रेलवे पुलिस के साथ पैरामिलिट्री फोर्स भी तैनात की गई हैं । मुख्यमंत्री मनोहर लाल इस मामले पर पैनी नजर बनाए हुए हैं ।

Advertisement

सतर्क है प्रशासन
गुरमीत राम रहीम को सजा सुनाए जाने वाले दिन पंचकुला में जो हंगामा बरपा था सरकार उससे सबक ले चुकी है  । रामपाल के समर्थकों को रोकने की तैयारी पहले से ही कर दी गई है । सुनवाई के दौरान रामपाल के 10 से 20 हजार श्रद्धालुओं के कोर्ट परिसर, सेंट्रल जेल, टाउन पार्क और रेलवे सटेशन जैसी जैसी जगहों पर इकट्ठा होने की संभावना थी । इस बार कोई कमी ना रह जाए इसके लिए पुलिस प्रशासन ने चाक चौबंद व्‍यवस्‍था की है ।

2014 में सामने आया मामला
बरवाला स्थित सतलोक आश्रम में रामपाल के गोरखधंधे पर पुलिस की ओर से 18 नवंबर 2014 को कार्रवई शुरु की गई थी । पुलिस ने आश्रम पर रेड की थी, जिसमें पहले दिन काफ लोग घायल हुए । रामपाल के खिलाफ गंभीर शिकायतें आई थीं । बावजूद इसके रामपाल के समर्थक आश्रम से हटने को तैयार नहीं थ । 5 महिलाओं समेत एक बच्‍ची की मौत के बाद रामपाल आश्रम से खुद बाहर आया था । रामपाल पर पुलिस ने एफआईआर नंबर 429 और 430 नंबर दर्ज की थी ।

7 केस हुए थे दर्ज
रामपाल हत्‍या मामले का ही आरोपी नहीं है, बल्कि नवंबर 2014 में पुलिस ने इस पर 7 अन्‍य मामले भी दर्ज किए थे । रामपाल पर देशद्रोह, हत्या, अवैध रूप से सिलेंडर रखने जैसे मामले भी दर्ज हैं । दो मामलों में रामपाल को कोर्ट से राहत मिली है, इन दोनों मामलों में पुलिस सुबूत नहीं जुटा सकी । एक मुकदमें से रामपाल का नाम कोर्ट द्वारा ही हटा दिया गया था । वहीं अब रामपाल को हत्‍या के दोनों मामलों में दोषी करार दिया गया है । वहीं रामपाल पर देशद्रोह के मामले में 19 नवंबर को सुनवाई होगी।