मां ने अवैध संबंधों की वजह से बेटे की ले ली जान, फिर एससी-एसटी एक्ट के तहत ब्राह्मण परिवार को फंसा दिया

पुलिस ने जब मामले की जांच शुरु की, तो कुछ और ही मामला सामने आया, दरअसल गुड्डी देवी का उसके देवर आकाश (23 साल) के साथ अवैध शारीरिक संबंध था।

New Delhi, Sep 16 : यूपी के मथुरा में पुलिस ने शुक्रवार को एक अनुसूचित जाति की महिला और उसके देवर को अपने 6 साल के बेटे की हत्या करने और फिर उसी मामले में ऊंची जाति के परिवार को फंसाने के आरोप में गिरफ्तार किया है। मथुरा के नौझेल पुलिस स्टेशन के अधिकारी वीरेन्द्र सिंह ने बताया कि दोनों आरोपित को गिरफ्तार कर मथुरा के स्थानीय अदालत में पेश किया गया है, जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया है।

Advertisement

क्या है मामला ?
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बीते 19 जुलाई को पुलिस ने मथुरा के बेहराही के पास एक सूखे कुंए से 6 वर्षीय बच्चे का शव बरामद किया, बच्चे की शिनाख्त प्रिंस कुमार के रुप में हुई, बच्चे की मां 30 वर्षीय गुड्डी देवी ने एक ब्राह्मण परिवार के 5 सदस्यों पर पुरानी दुश्मनी का हवाला देते हुए हत्या का आरोप लगाया, जिसके बाद पुलिस ने पांचों आरोपियों में से एक बच्चू पंडित को 21 अगस्त को गिरफ्तार कर लिया। उन पर एससी-एसटी एक्ट के तहत धारा भी लगाई गई।

Advertisement

सरकार की ओर से मिला आर्थिक सहायता
मामले की जांच करने वाले पुलिस अधिकारी ने बताया कि प्रदेश सरकार ने बच्चे की मां गुड्डी देवी को आर्थिक सहायता के रुप में 4.12 लाख रुपये भी दिये। गुड्डी देवी ने आरोप लगाया था कि तीन महीने पहले बच्चू पंडित के भाई मुकेश को पुलिस ने उसके पति के हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया था, उसी का बदला लेने के लिये अब उसके बेटे की हत्या कर दी गई है। मुकेश अभी भी जेल में बंद है।

अवैध शारीरिक संबंध
पुलिस ने जब मामले की जांच शुरु की, तो कुछ और ही मामला सामने आया, दरअसल गुड्डी देवी का उसके देवर आकाश (23 साल) के साथ अवैध शारीरिक संबंध था, एक दिन दोनों हमबिस्तर थे, तो उन्हें बेटा प्रिंस ने देख लिया था, जिसके बाद दोनों ने उन्हें मारने का प्लान बनाया । गुड्डी देवी और आकाश ने पुलिस पूछताछ में अपना गुनाह कबूल कर लिया है। उन्होने पुलिस को बताया कि प्रिंस ने उन्हें आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था, इसी वजह से उन्हें डर सता रहा था कि कहीं वो किसी को कुछ बता ना दे।

रस्सी से गला दबा कर हत्या
19 जुलाई को गुड्डी की सलाह के बाद आकाश प्रिंस को लेकर कुंए के पास गया और फिर रस्सी से गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। फिर वहीं शव को कुंए में फेंक दिया। पुलिस ने आगे बताते हुए कहा कि जब पुलिस ने जांच शुरु की, तो पता चला कि प्रिंस को आखिरी बार आकाश के साथ देखा गया था, इसके साथ ही स्थानीय लोगों ने गुड्डी और आकाश के शारीरिक संबंधों के बारे में भी बताया। जब गुड्डी से इस बारे में कड़ाई से पूछताछ की गई, तो उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

झूठे केस में फंसाने की साजिश
यूपी एससी-एसटी आयोग ने शुक्रवार को मथुरा पुलिस को आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के निर्देश दिये हैं, आयोग के अध्यक्ष बृजलाल ने कहा कि इस घटना पर संज्ञान लेते हुए आयोग ने मथुरा के एसएसपी को गुड्डी देवी और उनके देवर आकाश पर ब्राह्मण परिवार को झूठे केस में फंसाने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिये गये हैं। साथ ही आयोग ने मथुरा के डीएम से बच्चे की मौत के बाद मिले मुआवजा राशि को भी वसूलने के लिये कहा है, बच्चू पंडित को जेल से रिहा करने का आवेदन भी दे दिया गया है, फिलहाल वो मथुरा जेल में बंद हैं।