रेवाड़ी केस में नया खुलासा, पीड़िता की हालत देख घबरा गये थे आरोपी, बुलाये थे डॉक्टर

रेवाड़ी – पीड़िता की मां ने तीखे शब्दों में अपनी बेटी के लिये इंसाफ की गुहार लगाई है, उन्होने परिवार को दिये गये 2 लाख रुपये के मुआवजे के चेक को लौटाते हुए कहा कि उन्हें मुआवजे के पैसे नहीं बल्कि इंसाफ चाहिये। 

New Delhi, Sep 16 : हरियाणा के रेवाड़ी में सीबीएसई टॉपर छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म के मामले ने सबको हिला कर रख दिया, इस मामले में एक के बाद एक कई चौंकानें वाली बातें सामने आ रही है, आरोपियों ने 19 वर्षीय छात्रा को किडनैप कर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया, जब लड़की की हालत खराब होने लगी, तो घबराहट में आरोपियों ने पुलिस को भी कॉल कर बुलाया था।

Advertisement

नशे का इंजेक्शन देकर दुष्कर्म
सूत्रों के अनुसार छात्रा को नशे का इंजेक्शन देकर आरोपियों ने उसके साथ बर्बरता दिखाई। करीब दर्जनभर लोगों ने 8 घंटे तक उसके साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया। हालांकि एफआईआर में अभी तक सिर्फ 3 आरोपियों के ही नाम हैं, डॉक्टर के पहुंचने तक पीड़िता का ब्लड प्रेशर काफी लो हो चुका था, फिलहाल पीड़िता का इलाज जारी है।

Advertisement

दुष्कर्म के बाद बस स्टॉप पर छोड़ा
नयागांव के एक निवासी ने कहा कि डॉक्टरों ने आरोपियो को बताया था कि छात्रा का ब्लड प्रेशर काफी कम हो चुका है। ये सुनने के बाद आरोपियों ने पीड़िता को उठाकर 40 किमी दूर महेन्द्रगढ के कनीना बस स्टॉप पर लाकर छोड़ दिया। आरोपियों ने यहीं से सुबह लड़की को किडनैप किया था, आरोपी मनीष ने पीड़िता के पिता को कॉल कर बताया कि उसने उनकी बेटी को बस स्टॉप पर बेहोशी की बालत में देखा है।

परिवार को अच्छे से जानते थे आरोपी
मामले में जिन तीन आरोपियों पंकज, मनीष और निशु के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज किया गया है, ये सभी पीड़िता के गांव के ही रहने वाले हैं, पीड़िता का परिवार भी उनसे अच्छी तरह परिचित है। इस बीच डॉक्टर ने स्थानीय लोगों को पीड़िता के साथ हुई घटना के बारे में बताया, जिसके बाद बात फैलते-फैलते पीड़िता के घर वालों तक पहुंच गई। पुलिस सूत्रों के मुताबिक शनिवार को डॉक्टर की पहचान कर ली गई है, उन्हें सुरक्षा भी मुहैया कराई गई है, इस केस में उनका बयान महत्वपूर्ण हो सकता है।

मां कर रही इंसाफ की गुहार
पीड़िता की मां ने तीखे शब्दों में अपनी बेटी के लिये इंसाफ की गुहार लगाई है, उन्होने परिवार को दिये गये 2 लाख रुपये के मुआवजे के चेक को लौटाते हुए कहा कि उन्हें मुआवजे के पैसे नहीं बल्कि इंसाफ चाहिये। चेक लौटाते हुए पीड़िता की मां ने कहा कि सरकार मेरी बेटी के आबरु की कीमत लगा रही है। आपको बता दें कि इस मामले में एसटीएफ ने एक शख्स को हिरासत में लिया है, उससे पूछताछ की जा रही है, माना जा रहा है कि उसी के ट्यूबवेल के पास इस वारदात को अंजाम दिया गया है।