वाड्रा के रिश्तेदार का बड़ा खुलासा, 2013 में नीरव मोदी के साथ राहुल गांधी ने की थी कॉकटेल पार्टी

शहजाद पूनावाला ने कहा कि साल 2013 में दिल्ली के एक नामी होटल में पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपित नीरव मोदी और राहुल गांधी के बीच मुलाकात हुई है।

New Delhi, Sep 14 : भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या और केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली को लेकर कांग्रेस मोदी सरकार पर हमलावर है, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रेस कांफ्रेंस कर मामले में उच्च स्तरीय जांच की मांग की है, इसके साथ ही उन्होने वित्त मंत्री को तुरंत इस्तीफा देने के लिये कहा है। अब एक्टिविस्ट शहजाद पूनावाला ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और भगोड़े नीरव मोदी को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है, पूनावाला का आरोप है कि कांग्रेस अध्यक्ष साल 2013 में नीरव मोदी से एक होटल में मिले थे।

Advertisement

पूनावाला ने क्या कहा ?
शहजाद पूनावाला ने कहा कि साल 2013 में दिल्ली के एक नामी होटल में पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपित नीरव मोदी और राहुल गांधी के बीच मुलाकात हुई है। शहजाद के अनुसार इस बात के सबूत एसपीजी से जुटाये जा सकते हैं। हालांकि जैसे ही शहजाद पूनावाला ने ये दावा किया, कांग्रेस ने तुरंत उनकी बातों का खंडन किया है। आपको बता दें कि पहले शहजाद टीवी चैनलों पर कांग्रेस समर्थक के रुप में बहस में शामिल होते थे। वो राबर्ट वाड्रा के रिश्तेदार हैं।

Advertisement

कांग्रेस सांसद का दावा
अरुण जेटली की सफाई के बाद कांग्रेस सांसद पीएल पुनिया ने दावा करते हुए कहा कि विजय माल्या और अरुण जेटली के बीच करीब 10-15 मिनट बातचीत हुई थी, उन्होने अपनी आंखों से संसद के सेंट्रल हॉल में दोनों को बात करते हुए देखा था। इसके साथ ही उन्होने ये भी दावा किया कि संसद के सेंट्रल हॉल में लगे सीसीटीवी फुटेज देख मामले की तस्दीक की जा सकती है।

राहुल गांधी को खुली चुनौती
शहजाद पूनावाला ने दावा करते हुए कहा कि राहुल गांधी और नीरव मोदी के बीच मुलाकात उसी वक्त की है, जब भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी को लोन दिया गया था। शहजाद ने ट्वीट कर कांग्रेस अध्यक्ष को चुनौती देते हुए कहा कि मैं उन्हें खुली चुनौती देता हूं, कि वो इस बात का खंडन करें, कि नीरव मोदी से सितंबर 2013 संभवतः 11 सितंबर को कॉकटेल पार्टी में वो शरीक हुए थे या नहीं ।

लाई डिटेक्टर टेस्ट से गुजरने को तैयार
दिल्ली के एक होटल में राहुल गांधी और नीरव मोदी ने लंबा वक्त साथ बिताया था, शहजाद के अनुसार ये वही वक्त था, जब मेहुल चोकसी और नीरव मोदी को गलत ढंग से लोन दिया गया। एसपीजी के पास इसका रिकॉर्ड हो सकता है, या फिर लाई डिटेक्टर टेस्ट से भी इसकी पुष्टि की जा सकती है। शहजाद पूनावाला ने कहा कि मैं कुरान की कसम खाकर कहता हूं, कि मैं सच बोल रहा हैं और लाई डिटेक्टर टेस्ट से गुजरने के लिये तैयार हूं, इसके साथ ही उन्होने ये भी कहा कि अगर गलत साबित हुआ, तो राजनीति छोड़ दूंगा।