26 मई का चंद्र ग्रहण बेहद खास, जानें कितने बजे लगेगा और कहां आएगा नजर

lunar eclipse (1)

साल का पहला चंद्र ग्रहण 26 मई 2021 को लगने जा रहा है, इस बार के चंद्र ग्रहण को लेकर सारी जरूरी बातें आगे पढ़ें ।

New Delhi, May 25: वर्ष का पहला चंद्रग्रहण बुधवार यानी 26 मई को लग रहा है, ये पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा । खगोल विशेषज्ञों के अनुसार यह चंद्र ग्रहण पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका में दिखाई देगा । ग्रहण, प्रशांत – अटलांटिक और हिंद महासागर के कुछ हिस्सों से भी दिखाई देगा । यह भारत के पूर्वोत्तर राज्यों के कुछ हिस्सों, पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों, ओडिशा के कुछ हिस्सों और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में कुछ वक्त के लिए दिखाई देगा ।

चंद्र ग्रहण का समय
इस साल का पहला चंद्र ग्रहण भारतीय समय के अनुसार, सुबह 2 बजकर 17 मिनट से शुरू होकर शाम 7 बजकर 19 मिनट पर खत्म होगा । पूर्ण चंद्र ग्रहण 26 मई 2021 को होगा । न्यूज एजेंसी पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में चक्रवात यास के कारण ग्रहण दिखने की संभावना कम हो सकती है । ग्रहण का आंशिक चरण भारत में करीब 3 बजकर 15 मिनट से शुरू होकर शाम 6 बजकर 23 मिनट पर खत्म होगा ।

ब्‍लड मून कहलाया जाएगा
इस खगोलीय घटना के बारे में जानने की रुचि रखने वाले 26 मई, 2021 को पूर्ण चंद्र ग्रहण देख सकेंगे । इस घटना को ब्लड मून भी कहा जाता है, क्योंकि इसमें चंद्रमा थोड़ा लाल-नारंगी रंग का दिखाई देता है । ये नजारा बड़ा ही दुर्लभ होगा । वैज्ञानिकों के अनुसार इसे सुपर लूनर इवेंट कहा जाता है, क्योंकि ये सुपरमून भी होगा, ग्रहण भी होगा और चंद्रमा खूनी लाल रंग का दिखेगा । आपको बता दें 21 जनवरी 2019 के बाद ये पहली बार है जब पूर्ण चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है ।

क्‍यों कहलाता है ब्‍लड मून?
दरअसल विज्ञान के मुताबिक, जब चंद्रमा पृथ्वी के पीछे पूरी तरह से ढक जाता है तब इस पर सूर्य की कोई किरण नहीं पड़ती । ये अंधेरे में चला जाता है, लेकिन फिर भी पूरी तरह से काला नहीं होता । ऐसे में ये लाल रंग का दिखने लगता है । इसलिए कई बार पूर्ण चंद्र ग्रहण को ब्लड मून भी कहा जाता है । खास बता से कि चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा की रात में ही होता है । भारत के कुछ शहरों में 26 मई को आंशिक ग्रहण देखा जा सकेगा, ये शहर हैं अगरतला, आइजोल, कोलकाता, चेरापूंजी, कूचबिहार, डायमंड हार्बर, दीघा, गुवाहाटी, इम्फाल, ईटानगर, कोहिमा, लुमडिंग, मालदा, उत्तर लखीमपुर, पुरी और सिलचर।