भारत-रुस के बीच जमीन से आसमान तक 8 समझौते पर करार, पीएम मोदी ने कहा हमारी मैत्री प्रगाढ होगी

पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद के विरुद्ध संघर्ष अफगानिस्तान तथा हिंद, प्रशांत महासागर के घटनाक्रम, जलवायु परिवर्तन, एससीओ ब्रिक्स जैसे संगठनों में सहयोग करने से हमारे दोनों देशों के साझा हित हैं।

New Delhi, Oct 05 : पीएम मोदी और रुसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच बातचीत के बाद दोनों देशों ने 8 समझौतों पर हस्ताक्षर किये हैं, जिनमें अंतरिक्ष, परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण उपयोग, रेलवे समेत कई दूसरे क्षेत्रों में सहयोग के विषय को शामिल किया गया है। भारत ने रुस के साथ पांच अरब डॉलर के एस-400 वायु रक्षा प्रणाली समझौते पर हस्ताक्षर किये।

Advertisement

पीएम ने क्या कहा ?
रुस के राष्ट्रपति के साथ बैठक के बाद पीएम मोदी ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि भारत-रुस मैत्री अपने आप में अनूठी है, इसके साथ ही उन्होने रुसी राष्ट्रपति की तारीफ करते हुए कि इस विशिष्ट रिश्ते के लिये पुतिन की प्रतिबद्धता से इन संबंधों को और ऊर्जा मिलेगी, पीएम ने आगे बोलते हुए कहा कि हमारे बीच प्रगाढ मैत्री और सुदृढ होगी, हमारी विशेष और विशिष्ट सामरिक गठजोड़ को नई बुलंदियां प्राप्त होगी।

Advertisement

पुतिन ने क्या कहा ?
नरेन्द्र मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ बातचीत ने भारत-रुस के बीच रणनीतिक साझेदारी को नई दिशा दी है। रुस के राष्ट्रपति ने कहा कि आतंकवाद एवं मादक पदार्थों की तस्करी के खतरे से निपटने के लिये भारत के साथ सहयोग बढाने पर सहमति जताई गई है।

दोनों देशों के संबंधों की नई दिशा
दोनों देशों की बीच हुए समझौते से संबंधों की नई दिशा मिलेगी, पीएम ने कहा कि मानव संसाधन से लेकर प्राकृतिक संसाधनों तक, कारोबार से लेकर निवेश तक, नाभिकीय ऊर्जा के शांतिपूर्ण सहयोग से लेकर सौर ऊर्जा तक, प्रौद्योगिकी से लेकर बाघ संरक्षण तक, सागर से लेकर अंतरिक्ष तक, भारत और रुस के संबंधों का और भी विशाल विस्तार होगा।

दोनों देशों के हित
पीएम मोदी ने आगे बोलते हुए कहा कि आतंकवाद के विरुद्ध संघर्ष अफगानिस्तान तथा हिंद, प्रशांत महासागर के घटनाक्रम, जलवायु परिवर्तन, एससीओ ब्रिक्स जैसे संगठनों में सहयोग करने से हमारे दोनों देशों के साझा हित हैं। हम अंतरराष्ट्रीय संस्थानों में अपने लाभप्रद सहयोग को जारी रखने पर सहमत हुए हैं। दोनों देशों ने बदलते विश्व में बहु-ध्रुवीय और बहु-स्तरीय व्यवस्था को सुदृढ बनाने पर एकमत होने पर जोर दिया है। पीएम मोदी ने भारत के अंतरिक्ष मिशन गगनयान में पूर्ण सहयोग देने का आश्वासन दिया है, जिस पर उन्होने रुसी राष्ट्रपति को धन्यवाद कहा।